No Widgets found in the Sidebar

तू हज़ार बार भी रूठे तो मना लूँगा तुझे
मगर देख मोहब्बत में शामिल कोई दूसरा ना हो


देखी है बेरुखी की आज हम ने इन्तेहाँ
हमपे नजर पड़ी तो वो महफ़िल से उठ गए


तेरी निगाह में एक रंग-ए-अजनबियत था
किस ऐतबार पे हम खुल के गुफ्तगू करते


है इश्क़ की मंज़िल में हाल कि जैसे
लुट जाए कहीं राह में सामान किसी का


मुकम्मल ना सही अधूरा ही रहने दो
ये इश्क़ है कोई मक़सद तो नहीं है


वजह नफरतों की तलाशी जाती है
मोहब्बत तो बिन वजह ही हो जाती है


मेरी ज़िंदगी के हिस्से की धुल हो तुम
जो दिल में खिले वो फूल हो तुम
अब मेरे हर लम्हे में क़ुबूल हो तुम


जिस रोज तुमसे गले मिले हैं….
मुर्शाद मेरा दिल तुम्हारा नाम लेना लग गया है


सब खुशियां तेरे लिए तेरा दिल मेरे लिए
मेरे दिल में तू रहे हर लम्हा खुशी का साथ रहे


है इश्क तो फिर असर भी होगा,
जितना है इधर , उधर भी होगा

By rutvi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *